करिए❤❤❤❤❤आह में मेरी समाया करिए           रोज हर अंजन लगाया करिएहोठ पर मेरे मुस्करा कर तुम            चाँद बन मुझको सजाया करिएबन मोहन सपनों में आया करिए            नीदें मेरी सलोनी बनाया करिएमुरली मधुर – मधुर मंद बजा कर             रग- रग मेरी रास मचाया करिएविकल हिरदय का बन जा तू साज       सभल कर रह न भूल जा तू आजतब तक ही रख तू अपनी देह का मोह        जब तक न जाये तेरी यह लाजजीवन वही कहलाता खास         दुख दरद में कोई हो पासचलता गया जो अपने पैर         वह बुढापा बस आये रासडॉ मधु त्रिवेदी 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s